कंप्यूटर की उपयोगिता पर निबंध (computer ki upyogita)

कंप्यूटर की उपयोगिता

कंप्यूटर की उपयोगिता (computer ki upyogita)

आवश्यकता ही आविष्कार की जननी कहा जाता है। मनुष्य ने आदिकाल से अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए नई-नई खोज की है तथा नई-नई वस्तुओं का निर्माण किया है। आज के विज्ञान ने इस दिशा में मनुष्य को अनेक प्रकार के उपहार देकर, उसकी अनेक समस्याओं का समाधान किया है। विज्ञान के अनेक आविष्कारों में कंप्यूटर’ का भी विशेष स्थान है। कंप्यूटर आज के युग की अनिवार्यता बन गया है। कंप्यूटर को हिंदी में ‘संगणक’ कहा जाता है।

कंप्यूटर एक ऐसा आसान साधन है, जिसके द्वारा कठिन से कठिन, जटिल से जटिल प्रश्नों का उत्तर कुछ ही क्षणों में प्राप्त किया जा सकता है। यह मानव-निर्मित मस्तिष्क है, जो सूक्ष्म से सूक्ष्म गणनाएँ अल्प समय में कर सकता है, इसीलिए इसे इलेक्ट्रॉनिक मस्तिष्क कहा जाता है। आज तो कंप्यूटर का छोटा रूप ‘लैपटॉप’ बना लिया गया है।

कंप्यूटर को बनाने का श्रेय ‘चार्ल्स बैबेज’ को जाता है। कंप्यूटर के निमाण से अब तक कंप्यूटर में अनेक सुधार हो गए हैं तथा इसका स्वरूप निरंतर विकसित होता जा रहा है। वर्तमान युग में कंप्यूटर सूचना, प्रसारण और नियंत्रण का एक शक्तिशाली साधन बन गया है। अब तो सुपर कंप्यूटर भी बनाए जाने लगे हैं जो एक सेकंड में अरबों गणितीय गणनाएँ करने में सक्षम हैं।

आज कंप्यूटर का प्रयोग अनेक क्षेत्रों में किया जा रहा है अब तो यह एक अनिवार्यता बन गया है इसके बिना कार्य निपटाना कठिन ही नहीं असंभव लगने लगा है। बैंकों, व्यापारिक संस्थानों, कार्यालयों, रेलवे तथा हवाई जहाज के आरक्षण केंद्रों, मद्रणालयों आदि में कंप्यूटर का प्रयोग बढ़ता ही जा रहा है।

व्यापारिक प्रतिष्ठानों में खातों, लेन-देन, क्रय-विक्रय, लाभ-हानि आदि का विवरण कंप्यूटर पर आसानी से देखा जा सकता है। आज कोई भी क्षेत्र ऐसा नहीं है, जहाँ कंप्यूटर का प्रयोग न किया जाता हो। आजकल एक कंप्यूटर हजारों किलोमीटर दूर दूसरे कंप्यूटर को सूचना भी प्रेषित कर सकता है।

आज कोई भी क्षेत्र ऐसा नहीं है, जहाँ कंप्यूटर का प्रयोग न किया जाता हो, आज कल कप्यूटर हजारों किलोमीटर दूर दूसरे कंप्यूटर को सूचना भी प्रेरित कर सकता है। अब तो कंप्यूटर पर जन्म-पत्रियोँ भी बनाई जा रही है। अपनी जन्म-तिथि. समय तथा स्थान बताइए-कंप्यूटर ग्रह-कलाओं के गणना करके विस्तृत जन्म-पत्री प्रस्तुत कर देगा।

रक्षा के क्षेत्र में भी कंप्यूटर की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। मिसाइलें कंप्यूटर द्वारा ही संचालित होती हैं। मौसम की भविष्यवाणी करने, वायुयान का मार्ग निर्धारित करने, युद्धों की रूपरेखा बनाने में कंप्यूटर बहुत उपयोगी है। मुद्रण के क्षेत्र में तो कंप्यूटर ने क्रांति ला दी है। कंप्यूटर की सहायता से चित्र बनाने तथा मुद्रण का कार्य अत्यंत त्वरित गति से किया जा सकता है।

कंप्यूटर का प्रयोग शिक्षा के क्षेत्र में भी सफलतापूर्वक किया जा रहा है। पूरी की पूरी पुस्तक को एक CD में संगृहीत की जा सकती है। विज्ञापनों के क्षेत्र में कंप्यूटर अत्यंत लाभदायक सिद्ध हुआ है। इस प्रकार हम देखते हैं, कि कंप्यूटर हमारी अनेक इच्छाओं की पूर्ति करने में समर्थ है।

कंप्यूटर बहुत उपयोगी सिद्ध हुआ है। एक कंप्यूटर कई व्यक्तियों का कार्य निपटा सकता है। भारत जैसे देश में जहाँ बेरोजगारों की संख्या पहले ही बहुत अधिक है, वहां कंप्यूटर के प्रयोग ने इसमें वृद्धि कर दी है। आज मनुष्य कंप्यूटर का दास बनकर रह गया है।

More Articles

Grey Goose and Gander

Essay on Republic day

Essay on Independence day in Hindi

Facebook Comments
Please follow and like us: