कुलधरा का रहस्य- kuldhara a haunted village

कुलधरा राजस्थान का एक भूतिया (Haunted) गाँव है। जो लगभग 170 सालों से वीरान है।यह गाँव 13th  शताब्दी में बसा था। जिसमें पलिवल(पालिवाल) ब्राह्मण रहते थे। एक बार राजा के दीवान को कुलधरा गाँव के मुखिया की बेटी पसन्द आ जाती है और दीवान बहुत बुरे स्वभाव का था, जो लोगों पर अत्याचार करता रहता था इसलिए वह लोगों को धमकी देता है की अगर उन सब ने उस लड़की को उसे नही सौपा तो वह लोगों पर ओर tax लगाएगा। लेकिन उसकी यह सोच ग़लत निकली सभी गाँव वाले मुखिया की बहुत इज़्ज़त करते थे ओर मुखिया की लड़की को बेटी की तरह मानते थे। इसलिए उन्होंने गाँव को छोड़ना ही ज़्यादा सही समझा ओर सभी एक ही रात है पूरे गाँव को छोड़ के कही दूर चले गए ओर साथ ही ये श्राप भी देते गए की उनके बाद उस गाँव में ओर कोई नही बस सकता है। जो पहले एक हँसता खेलता गाँव था अब वह एक वीरान खंडर बन गया है। कुछ लोग कहते है की इस जगह पर उन्ही लोगों की आत्मा भटकती है जो इस गाँव को छोड़ के गए थे।

वैसे 2010 से यह राजस्थान सरकार द्वारा एक Tourist Place के रूप में प्रचारित-प्रसारित किया गया है जहाँ दिन मैं कोई भी जा सकता है। लेकिन वहाँ जाने वाले पर्यटकों का कहना है की यह किसी के बात करने की आवाज़, बच्चों के रोने की आवाज़, औरतों की चूड़ियों की ओर काम करने की आवाज़ें सुनाइ देती है। जो इस जगह को और भी भयानक बनती है।

वैज्ञानिको द्वारा किए गए शौध:

कुलधरा जैसलमेर से लगभग 18km दूर स्थित है। पालिवाल समुदाए के ऐसे 84 गाँव थे जिसमें कुलधार काफ़ी अमीर थे। इस गाँव में लगभग 600 घर थे, जो ईंट और पत्थर से इस तरह से बने थे की यह कभी भी गर्मी का एहसास नही होता था। घरों को इस तरह से बनाया गया था जिससे हवा घर के भीतर से होकर जाती थी जो घर को ठंडा रखती थी। पालिवाल समुदाए के लोग यहाँ बड़े पैमाने में खेती भी करते थे। यह सब वो अपनी एक ख़ास तकनीक के कारण कर पाए थे जिसमें पानी ज़मीन में ज़्यादा गहराई में नही जाता था ओर उसको वो लोग फिर अपनी खेती ओर मवेसी पालने ओर पीने के लिए इस्तेमाल करते थे।

Facebook Comments
Please follow and like us: